शनिवार, 17 अक्तूबर 2009

खील पताशे मिठाई और धुम धड़ाके से, हिल-मिल मनाएं दीवाली का त्यौहार



  निश  दिन  खिलता रहे आपका परिवार
चंहु दिशि फ़ैले आंगन मे सदा उजियार
खील पताशे मिठाई और धुम धड़ाके से
हिल-मिल  मनाएं  दीवाली  का त्यौहार

7 टिप्पणियाँ:

संगीता पुरी on 17 अक्तूबर 2009 को 11:26 am ने कहा…

पल पल सुनहरे फूल खिले , कभी न हो कांटों का सामना !
जिंदगी आपकी खुशियों से भरी रहे , दीपावली पर हमारी यही शुभकामना !!

AlbelaKhatri.com on 17 अक्तूबर 2009 को 12:26 pm ने कहा…

बहुत ख़ूब कहा........

आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की

हार्दिक बधाइयां

AlbelaKhatri.com on 17 अक्तूबर 2009 को 12:28 pm ने कहा…

बहुत ख़ूब कहा........

आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की

हार्दिक बधाइयां

दीपक भारतदीप on 17 अक्तूबर 2009 को 1:11 pm ने कहा…

आपको दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई.
दीपक भारतदीप

जी.के. अवधिया on 17 अक्तूबर 2009 को 4:18 pm ने कहा…

नमस्‍तेऽस्‍तु महामाये, श्री पीठे सुरपूजिते।
शंख-चक्र-गदा-हस्‍ते, महालक्ष्‍मी नमोऽस्‍तुते॥

दीपोत्सव का यह पावन पर्व आपके जीवन को धन-धान्य-सुख-समृद्धि से परिपूर्ण करे!!!

Udan Tashtari on 17 अक्तूबर 2009 को 10:31 pm ने कहा…

सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

सादर

-समीर लाल 'समीर'

राजकुमार ग्वालानी on 18 अक्तूबर 2009 को 7:56 am ने कहा…

इस दीपावली में प्यार के ऐसे दीए जलाए

जिसमें सारे बैर-पूर्वाग्रह मिट जाए

हिन्दी ब्लाग जगत इतना ऊपर जाए

सारी दुनिया उसके लिए छोटी पड़ जाए

चलो आज प्यार से जीने की कसम खाए

और सारे गिले-शिकवे भूल जाए

सभी को दीप पर्व की मीठी-मीठी बधाई

 

एक खुराक यहाँ भी

चिट्ठों का दवाखाना

चिट्ठाजगत

हवा ले

Blogroll

Site Info

Text

ललित वाणी Copyright © 2009 WoodMag is Designed by Ipietoon for Free Blogger Template